मई 28, 2015 17:14:12 तक के समाचार

रिपोर्टर लाग इन

 प्रदेशजिलातहसीलगाँव

स्मृति ईरानी को यूपी का सीएम उम्मीदवार घोषित करने की मांग !

राहुल गांधी को कड़ी चुनौती देने के बाद अमेठी में लगातार सक्रिय केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को अब यूपी में भाजपा का सीएम उम्मीदवार प्रोजेक्ट करने की मांग उठने लगी है। मंगलवार को सलोन में जनसभा में कार्यकर्ताओं ने आवाज उठाई तो मंच से पूर्व मंत्री दलबहादुर कोरी ने लोगों से कहा कि वे दीदी को विधायक बनाएं, ताकि वे प्रदेश की अगली सीएम बन सकें। हालांकि स्मृति ने उन्हें टोका कि सांसद बनाने की बात कहो। तब कोरी ने कहा, सांसद नहीं, विधायक बनाकर सूबे का सीएम बनाना है। भीड़ ने उनके समर्थन में तालियां बजाईं। एक दिवसीय दौरे पर अमेठी आईं केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने मंगलवार को गौरीगंज की जनसभा में कहा कि राहुल गांधी बदलाव नहीं बदले की राजनीति करते हैं। उन्होंने दावा किया

आगे पढ़ें...


Jansatta

गुर्जर आंदोलन: रेलवे ट्रैक खाली करवाने के लिए BSF की 18 कंपनियां रवाना
Jansatta
राजस्थान में आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे गुर्जरों से रेल ट्रैक खाली करवाने के लिए बीएसएफ की 18 कंपनियां भेजी जा रही हैं।। ट्रैक पर पिछले आठ दिनों से गुर्जर प्रदर्शनकारियों ने कब्ज़ा कर रखा है। राजस्थान सरकार के अनुरोध पर बीएसएफ़ की टीम भेजी जा रही है। वहीं गुर्जर नेताओं के साथ बैठक लगातार टल रही है। हो सकता है अब बैठक 5 बजे हो। उधर, राजस्थान हाईकोर्ट ने एक भी गुर्जर प्रदर्शकारी को गिरफ्तार नहीं कर पाने और 'अलोकतांत्रिक' प्रदर्शन से लोगों को मुश्किल में डालने की अनुमति देने को लेकर मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) की आज खिंचाई की। गुर्जरों के विरोध प्रदर्शनों ...
गुर्जर विरोध प्रदर्शन पर हाइकोर्ट ने सीएस-डीपीजी को लताडा, वार्ता के लिए जयपुर रवाना हुए बैंसलाप्रभात खबर
गुर्जर आंदोलन पर हाईकोर्ट सख्त, कहा रेल पटरियों को खाली करवाए सरकारLive हिन्दुस्तान

सभी २६९ समाचार लेख »

Live हिन्दुस्तान

CBSE ने जारी किया रिजल्ट, यहां देखें अपनी मार्कशीट
दैनिक भास्कर
भोपाल। सीबीएसई सीनियर स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन की 10वीं बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट गुरुवार को जारी कर दिया गया। बोर्ड की वेबसाइट पर रिजल्ट देखा जा सकता है। सिर्फ चंडीगढ़ रीजन का रिजल्ट किन्ही कारणों से कल (29 मई) दोपहर 12 बजे घोषित किया जाएगा। इस बारे में बोर्ड के ऑफिशियल प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि रीजन में 5 लाख छात्रों ने परीक्षा दी है। उधर, सीबीएसई इस बार मार्कशीट और सर्टिफिकेट कॉपी के अलावा डिजिटल फॉर्मेट में भी देगा, जिसे स्टूडेंट डिजिटल लॉकर में रख सकेंगे। सरकार वोटर आईडी, पैन कार्ड और राशन कार्ड भी डिजिटल फॉर्मेट में बनवा रही है। 13 लाख से ...
CBSE 10वीं के नतीजे जारी, 97.32 फीसदी स्‍टूडेंट पासआज तक
सीबीएसई 10वीं के नतीजे घोषित, यहां देखें रिजल्टदैनिक जागरण
CBSE 10वीं बोर्ड में 97.32 प्रतिशत छात्र पास, लड़कियां फिर आगेLive हिन्दुस्तान

सभी ११० समाचार लेख »

आज तक

केंद्र की अधिसूचना को दिल्ली विधानसभा ने नकारा, आज सुनवाई
आज तक
दिल्ली सरकार से जारी टकराव के बीच प्रदेश के उपराज्यपाल नजीब जंग गुरुवार को गृह मंत्रालय पहुंचे. यहां गृह सचिव के साथ उनकी बैठक काफी देर चली. बताया जा रहा है कि दोनों के बीच गृह मंत्रालय की नोटिफिकेशन पर आगे के रुख समेत कई प्रशासनिक मुद्दों पर बातचीत हुई. गृह मंत्री राजनाथ सिंह इस बैठक में नहीं थे. नोटिफिकेशन पर शुक्रवार को HC में होगी सुनवाई दिल्ली में उपराज्यपाल को पूरी शक्तियां देने वाले मोदी सरकार के नोटिफिकेशन के खिलाफ दाखिल की गई याचिका पर शुक्रवार को दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई होगी. इस याचिका में अधिसूचना की संवैधानिक मान्यता को चुनौती दी गई है.
बड़ी खबरें: केजरीवाल vs केंद्र, अब सुप्रीम कोर्ट में कल होगी सुनवाईदैनिक भास्कर
अफसरों के ट्रांसफर को लेकर एलजी ने केंद्र से की केजरीवाल की शिकायतABP News
राजनाथ से मिलकर एलजी ने की केजरीवाल की शिकायतLive हिन्दुस्तान

सभी १८३ समाचार लेख »

ज़नाब एक नज़र इधर भी...

  • आज आउट होगा ICSE और ISC का रिजल्ट

    काउंसिल द्वारा 10वीं (ICSE) और 12वीं (ISC) के नतीजे एसएमएस, कैरियर पोर्टल और काउंसिल की वेबसाइट पर उपलब्ध करा दिए जाएंगे. स्टूडेंट अपना रिजल्ट ऑफीशियल वेबसाइट cisce.org पर लॉग ऑन करके अपना रिजल्ट देख सकेंगे. छात्रों की सुविधा के मद्देनजर बोर्ड ने रिजल्ट ऑनलाइन और एसएमएस दोनों के जरिए उपलब्ध कराने का फैसला लिया है। कॉलेजों के करियर पोर्टल पर भी रिजल्ट जारी किए जाएंगे। वहीं, एसएमएस से रिजल्ट जानने के लिए रजिस्ट्रेशन कराना होगा। एसएमएस के जरिये अपना रिजल्ट जानने के लिए 10वीं के छात्रों को आईसीएसई के साथ अपना सात अंकों का यूनिक आईडी नंबर टाइप कर 09248082883 पर भेजना होगा। इसी तरह 12वीं के छात्र आईएससी टाइप कर अपना सात अंकों का यूनिक आईडी नंबर लिखकर उसी नंबर पर भेज सकते हैं।..

  • जबतक किसान की तरक्की नही होगी तब तक देश की तरक्की नही होगी।

    जौनपुर 16 मई 2015 - माननीय मंत्री उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग, उ0प्र0 शासन श्री पारसनाथ यादव आज सायं सदर तहसील के अन्तर्गत ग्राम बबुरा में 218 किसानों को 2 लाख 84 हजार 200 रूपये का तथा उमरछा मंे 360 किसानों को 5 लाख 51 हजार रूपये का दैवी आपदा राहत कोष से कृषि अनुदान का चेक किसानों को वितरण किये। इस अवसर पर उपस्थित किसानो को सम्बोधित करते हुए माननीय उद्यान मंत्री ने कहा कि हमारी सरकार अभियान चलाकर प्रदेश के किसान को जिसकी फसल छति हुई है उसे कम से कम 1500 रूपये का चेक कृषि अनुदान के रूप में दिया जा रहा है। भारत कृषि प्रधान देश है किसान भगवान है किसान अन्नदाता है। किसानो के लिए हमारे सविधान में यह व्यवस्था है कि जबतक किसान की तरक्की नही होगी तब तक देश की तरक्की नही होगी।..

  • जौनपुर- विदेशी पर्यटको को बढ़ावा देने के लिए उठाया गया कदम

    जौनपुर 07 मई 2015- विदेशी पर्यटको को बढ़ावा देने के लिए जिलाधिकारी भानुचन्द्र गोस्वामी ने आज प्रातः 6ः30 बजे से 9 बजे तक जिले के ऐतिहासिक स्थलो का अवलोकन किया। जिसमें शाहीपुल, बडी मस्जिद, लाल दरवाजा, चार अंगुल मस्जिद, शाही किला, अटाला मस्जिद, झिझरी मस्जिद, पुराना मकबरा एवं गुरूद्वारा, नये पुल से ओलन्दगंज की बनने वाली सड़क का निरीक्षण किया। उपजिलाधिकारी सदर शिव सिंह एवं अधि0 अधि0 नगर पालिका संजय शुक्ला को जमीन सम्बंधी मामलों में बात-चीत एवं नाप-जोख कराकर आम सहमति से रास्ता बनवाने का निर्देश दिया। अटाला मस्जिद के सामने फौहारा आम सहमति से लगवाने का निर्देश दिया। उपजिलाधिकारी एवं ई0ओ0 नगर पालिका को जॉचकर पता लगाने का निर्देश दिया कि शाही किला के बगल वाहन पार्क की जमीन सरकारी है अथवा व्यक्तिगत है। ..

  • सलमान ख़ान को पाँच साल जेल

    12 साल पुराने हिट एंड रन मामले में मुंबई की एक अदालत ने सलमान ख़ान को दोषी क़रार देते हुए पाँच साल क़ैद की सज़ा सुनाई है.सलमान ख़ान को ज़मानत के लिए हाई कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाना पड़ेगा.मुंबई सत्र अदालत के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश डीडब्लू देशपांडे ने कहा कि सलमान ख़ान पर ग़ैर इरादत हत्या का मामला साबित हुआ है.उन्होंने कहा कि सलमान ही नशे में गाड़ी चला रहे थे और उनके ख़िलाफ़ सभी आरोप सही साबित हुए हैं. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ जब जज ने सलमान को दोषी क़रार दिया, उस समय सलमान की आँखों में आँसू आ गए.जज देशपांडे ने फ़ैसला सुनाते समय एलेस्टर परेरा और बीएमडब्लू मामले में संजीव नंदा केस का हवाला दिया.बीबीसी संवाददाता मधु पाल के मुताबिक़ सज़ा पर बहस के दौरान सलमान ने कहा कि वो काफ़ी वक्त स..

  • जौनपुर : नहीं बजेगा डी0जे० रात 10 बजे के बाद

    जौनपुर 02 मई 2015 - जिलाधिकारी भानुचन्द्र गोस्वामी के निर्देश के रोक के बावजूद जिले में चल रहे डी0जे0 को कल रात 10 बजे के बाद बजाने पर कोतवाल सी0बी0सिंह ने धमेन्द्र कुमार पुत्र छविनाथ निवासी नई बाजार थाना जौनपुर पालिटेक्निक चौराहे से राज कमल टाकिज के बीच में डी0जे0 संचालक के विरूद्ध सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज कर डी0जे0 एवं 14 साउड बक्स को जब्त कर लिया है। जिलाधिकारी ने सभी डी0जे0 संचालको को निर्देशित किया है कि रात्रि 10 बजे के बाद बजाने पर सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की जायेगी।                                                         ..

  • हाई टेंशन तार टूटने से 2 लोगो की मौत कई घायल |

    जौनपुर : आज 15.12.2014 को लगभग दोपहर 1:00 बजे  हाई टेंशन तार टूटने से बड़ा हदाशा जानकारी के मुताबिक जौनपुर  सिपाह में हाई टेंशन तार एक बस पर टूट कर गिरने से पूरी बस में करेंट  दौड़ गया और बस में अफरा तफरी मच गयी बस के पास खड़ी एक ट्रक में आग लग गयी , दमकल  की सहायता से आग पर काबू पाया गया  और घायल लोग को एम्बुलेंसः की साहयता से अस्पताल पहुचाया गया |समाचार लिखे जाने तक 2 की मौत कई लोगो  ल के गंभीर रूप से  घायल की पुष्टि हो चुकी है | रिपोर्टर : सुशांत चौबे (जौनपुर )..

  • पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर राजनीति के 'युवा तुर्क'

    भारतीय राजनीति में 'युवा तुर्क' के नाम से विख्यात पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनके बेलौस विचारों और साहस तथा अडिग विश्वास के लिए याद किया जाएगा। चंद्रशेखर का जन्म 17 अप्रैल 1927 को उत्तरप्रदेश के बलिया जिले में इब्राहिम पट्टी गाँव के एक किसान परिवार में हुआ था। दस नवंबर 1990 से 21 जून 1991 के बीच 11वें प्रधानमंत्री के रूप में देश का नेतृत्व करने वाले चंद्रशेखर की बचपन से ही राजनीति में गहरी रुचि थी। छात्र राजनीति के दौर से ही उनके भीतर तेजतर्रार आदर्शवाद और क्रांतिकारी तेवर विद्‍यमान थे।चंद्रशेखर ने 1950-1951 के दौरान इलाहाबाद विश्वविद्‍यालय से राजनीति शास्त्र में स्नात्तकोत्तर डिग्री हासिल की और उसके बाद वह समाजवादी आंदोलन से जुड़ गए। वे आचार्य नरेंद्र देव से बहुत करीब से जुड़े थे और ..

  • लालू-मुलायम अब बनेंगे समधी |

    नई दिल्ली। सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की दोस्ती जल्द ही रिश्तेदारी में बदलने वाली है। खबर है कि लालू की बेटी मुलायम सिंह यादव के घर की बहू बनने वाली हैं। दरअसल मुलायम सिंह के पोते तेज प्रताप यादव की लालू प्रसाद की छोटी बेटी लक्ष्मी के साथ शादी होने वाली है। और खबरों की माने तो दोनों की शादी पक्की हो गई है।   हाल ही में तेज प्रताप यादव मैनपुरी संसदीय सीट से लोकसभा सांसद बने हैं। तेज प्रताप मुलायम के दिवंगत भतीजे रणवीर सिंह के बेटे हैं। दोनों की दिसंबर में सगाई होने की खबर है और शादी अगले साल फरवरी में हो सकती है।   लालू के बीच तल्खीक की शुरुआत 1990 के दशक में शुरू हुई थी। 1997 में संयुक्ती मोर्चा की सरकार गठन के दौरान मुलायम ने प्रधानमंत्री पद के लिए ..

  • रामपाल के कमरे में मिली प्रेग्नेंसी किट, गद्दी के नीचे हथियारों का जखीरा

    बरवाला स्थित संत रामपाल के सतलोक आश्रम में हरियाणा पुलिस के विशेष जांच दल (एसआइटी) द्वारा शुक्रवार को आश्रम की तलाशी के दौरान हैरान करने वाले तथ्य सामने आए जहां आश्रम में रामपाल के एक कक्ष से लगे कमरे से गर्भ की जांच करने का एक उपकरण भी मिला है। पुलिस को आश्रम के एक बाथरूम में अचेतावस्था में बंद एक महिला भी मिली। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। महिला की पहचान मध्य प्रदेश के अशोक नगर की बिजलेश के तौर पर की गई है।   तलाशी अभियान के दौरान पुलिस ने परिसर में छिपे तीन लोगों को हिरासत में ले लिया जहां से बुधवार को 63 वर्षीय विवादास्पद संत को हत्या के एक मामले में गिरफ्तार किया गया था।पुलिस विभाग के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि दल को .32 बोर की तीन रिवॉल्वर, 19 एअरगन, दो डीबीबीएल 12 बो..

  • फिर लहराया गणित के क्षेत्र मेँ भारत का झंडा |

    भारतीय मूल के दो प्रोफेसरों को गणित के क्षेत्र में ग्लोबल पुरस्कार दिया गया है। इनमें से एक को फील्ड मेडल दिया गया है जिसे ‘गणित के नोबेल पुरस्कार’ के रूप में जाना जाता है। सियोल में आयोजित इंटरनेशनल कांग्रेस ऑफ मैथेमेटिक्स में इंटरनेशनल मैथमेटिकल यूनियन (आईएमयू) ने मंजुल भार्गव को फील्ड मेडल और सुभाष खोट को रॉल्फ नेवानलिन्ना पुरस्कार से नवाजा है। प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में गणित के प्रोफेसर भार्गव उन चार विजेताओं में से थे जिन्हें प्रत्येक चार में प्रदान किए जाने वाले इस फील्ड मेडल के लिए चुना गया है। भार्गव को फील्ड मेडल ज्यामितिय संख्या में नई पद्धति को विकसित करने के लिए दिया गया है, जबकि खोट को नेवानलिन्ना पुरस्कार यूनिक गेम्स की समस्याओं को परिभाषित करने, इसकी जटिलताओं..

  • सिर झुकाना नहीं आता

    इतनी मुश्किलें हैं फिर भी उसकी महफ़िल में जाकर मुझको गिडगिडाना नहीं भाता…   वो जो चापलूसों से घिरे रहता है वो जो नित नए रंग-रूप धरता है वो जो सिर्फ हुक्म दिया करता है वो जो यातनाएँ दे के हँसता है मैंने चुन ली हैं सजा की राहें क्योंकि मुझको हर इक चौखट पे सर झुकाना नहीं आता…       उसके दरबार में रौनक रहती उसके चारों तरफ सिपाही हैं हर कोई उसकी इक नज़र का मुरीद उसके नज़दीक पहुँचने के लिए हर तरफ होड मची रहती है और हम दूर दूर रहते हैं लोगों को आगाह किया करते हैं क्या करें, इतनी ठोकरें खाकर भी मुझको दुनियादारी निभाना नहीं आता…   अनवर सुहैल..

  • कुछ यादे (बिछडे लम्हों की )

    वो बचपन ..वो नादानिया वो शरारते ..वो मनमानिया "वो गावं ..वो गलियारे वो आँगन ..वो चोबारे .... जहाँ रिस्तो की ऊँगली पकड़कर मैंने ख़ुद को पहली बार नन्हे कदमो पर चलते देखा था रिस्तो का वो एक मेला था जहाँ हर एक कंधे पर मने ख़ुद को झूलते देखा था " सरकार की नोकरी ने घर की जरूरतों ने पापा को विदेश का रास्ता दिखाया था॥ ६साल की थी जब ,नम आँखों से उस प्लेन को उड़ान भरते देखा था 'भीगी भीगी पलकों से .. माँ को चिट्ठियाँ पढ़ते देखा था टूटी फूटी सब्द रचना से ख़ुद को चिट्ठिया लिखते देखा था " खेतो के बीच से निकली उस पगडण्डी पर मैंने ख़ुद को स्कूल जाते देखा था नन्हे नन्हे कदमो से जब नदिया के पुल से उतरती थी तो ख़ुद को नदिया की गहरायी के डर से उबरते देखा था बढ़ते कद के साथ.. अपनी मासूमियत को शातानियो में बदलते देखा था " ख़..

  • नेता और भगवान |

    नेता को जनता चुनती है भगावान को भक्त ठीक है, नेता जनता के बीच से निकलते है भगवान संतो के बीच से, नेता भी  जनता से अछ्छी तरह परिचित होते भगवान भी भक्तो से  यह भी ठीक है|  लेकिन अंतर कहाँ है देखते है ? भगवान भक्त के प्रेम को देखते  है, नेता जी दौलत को देखते है | भगवान सबको गले लगते है नेता जी अपने फायदे के हिसाब से | भगवान भक्त से मिलने के लिये खुद आते है , नेता जी के यहाँ अर्जी देनी पडती है | भगवान भक्तो के दिल मे बसते है नेता जी जाति, सम्प्रदाय, मे बसते है भगवान भक्तो का भला चाहते है , नेता जी अपना | भगवान देते है नेता जी लेते है | भगवान भक्त के आगे झुकते है, नेता जि झुकाते है | भगवान जाति पात, अमीर गरीब,मे भेद नही करते, नेता जी ...............? हम(आत्मा) भगवान ( परमात्मा) दोनो एक ही है कोयी भेद नही है|   जब तक नेता ..

  • विजयी के सदृश जियो रे - रामधारी सिंह दिनकर

    वैराग्य छोड़ बाँहों की विभा संभालो चट्टानों की छाती से दूध निकालो है रुकी जहाँ भी धार शिलाएं तोड़ो पीयूष चन्द्रमाओं का पकड़ निचोड़ो   चढ़ तुंग शैल शिखरों पर सोम पियो रे योगियों नहीं विजयी के सदृश जियो रे   जब कुपित काल धीरता त्याग जलता है चिनगी बन फूलों का पराग जलता है सौन्दर्य बोध बन नयी आग जलता है ऊँचा उठकर कामार्त्त राग जलता है   अम्बर पर अपनी विभा प्रबुद्ध करो रे गरजे कृशानु तब कंचन शुद्ध करो रे   जिनकी बाँहें बलमयी ललाट अरुण है भामिनी वही तरुणी नर वही तरुण है है वही प्रेम जिसकी तरंग उच्छल है वारुणी धार में मिश्रित जहाँ गरल है   उद्दाम प्रीति बलिदान बीज बोती है तलवार प्रेम से और तेज होती है   छोड़ो मत अपनी आन, सीस कट जाये मत झुको अनय पर भले व्योम फट जाये दो बार नहीं यमराज कण..

  • भ्रष्टाचार तभी मिट सकता है जब हमारे और आपके अंदर से आवाज उठनी चाहिये कि हम क्या है |

     हम या आप कुछ कर सकते तो ईतना ही कि एक ग्वाला दूध मे  मिलावट करने से पहले ए सोचे कि ऐ  नौजवान होने वाले  बच्चे हमारे देश के भविश्य है जिसे  मै  मिलावट वला दूध पिला रहा हू , एक शिक्षक ऐ सोचे कि हम हमे इन बच्चो  को शिक्षा देनी ही हमारी प्रथिमकता है ऐ हमारे देश के भविशय है , हम ऐ सोचे कि हमारे घर मे 5 वाट के बल्ब से भी रोशनी हो सकती है , हो सकता है कि  10-20 वर्ष मे ईमांदारी  कि जडे पकड ले या शुरुआत हो जाये |  जब हम अभी से अपने अंदर कि कमियो को अगली पीढी मे नही आने के लिये  उत्प्रेरित करगे, तो लगेगा कि सही रूप मे भ्रस्टाचार के खिलाफ खडे हो गये है | विचार बहुत ही बुनियादी है , लेकिन सहमति नही बनती है ,हमारे 3 -10 लगो के विचार मिल सकते है ,  शिर्फ  विचार ही मिल रहे रहे ना तो मै कायाम हू ना तो आप कायम है (हो ..

  • कोयी चांद पर कविता तभी लिख सकता है जब उसका पेट भरा हो , भुखे आदमी को चांद भी रोटी नजर आती है

    यह पहले भी कह चुका हू अब भी कह रहा हू| आज तक  चैनेल ने ' ऑपरेशन आम आदमी' के जरिए जो खुलासा हुआ है कि कैसे जारी है भ्रष्टाचार| आप किसी भी शहर या प्रदेश से जुडे हो , आप अछ्छी तरह देख रहे होगे सुन रहे होगे , कि  कैम्प लगा है आज आप किसी भी पार्टी की सदस्यता लिजिये, चाहे कोयी भी पार्टी हो  कोयी मानक नही है,  लगता है जैसे संख्या बढानी हो इस जनपद मे, ईतने लोगो ने, इस जनपद मे इतने लोगो ने , सदस्यता ग्रहण की| कौन जुड रहा है, चोर है , ईमांदार है, भ्रश्ट है, कोयी  मानक नही है ना ही मतलब है, कौन लोग जुडने कि कोशिश मे लगे है हम आप अछ्छी तरह जानते है, क्यो कि हमे आप को लगता है कि  फलाँ पार्टी का भविश्य अछ्छा है अभी से जुड जायेगे तो  तो हो सकता है कि आगे चल कर विधायक आदि बन जाये , या प्रशासन के  उपर धौश जमा कर अपना काम ..

  • कविता: नए साल की शुभकामनाएँ!

    1. खेतों को नाज मिले बैलों को सानी जंगल को पेड़ मिलें नदिया को पानी     बिटिया को प्‍यार मिले बेटे को काज तवे को रोटी मिले चूल्‍हे को आग   बटिया को राही मिले प्‍यासे को कुवाँ बच्‍चों को खेल मिले चिमनी को धुवाँ   जुगनू को रा‍त मिले चिडि़या को आसमान ‘होरी’ को मान मिले संघर्ष को दास्‍तान   सागर भी नीला रहे पर्वत हो धानी ऐसा हो नया साल सपनों के मानी लेखक कमल जोशी          2. नये साल की शुभकामनाएँ! खेतों की मेड़ों पर धूल-भरे पाँव को, कुहरे में लिपटे उस छोटे-से गाँव को, नए साल की शुभकामनाएँ!   जाते के गीतों को, बैलों की चाल को, करघे को, कोल्हू को, मछुओं के जाल को, नए साल की शुभकामनाएँ!   इस पकती रोटी को, बच्चों के शोर को, चौंके की गुनगुन को, चूल्हे की भोर को, नए साल की शुभकामनाएँ! &n..

  • तुम अपनी हो, जग अपना है

    तुम अपनी हो, जग अपना है किसका किस पर अधिकार प्रिये फिर दुविधा का क्या काम यहाँ इस पार या कि उस पार प्रिये । देखो वियोग की शिशिर रात आँसू का हिमजल छोड़ चली ज्योत्स्ना की वह ठण्डी उसाँस दिन का रक्तांचल छोड़ चली । चलना है सबको छोड़ यहाँ अपने सुख-दुख का भार प्रिये, करना है कर लो आज उसे कल पर किसका अधिकार प्रिये । है आज शीत से झुलस रहे ये कोमल अरुण कपोल प्रिये अभिलाषा की मादकता से कर लो निज छवि का मोल प्रिये । इस लेन-देन की दुनिया में निज को देकर सुख को ले लो, तुम एक खिलौना बनो स्वयं फिर जी भर कर सुख से खेलो । पल-भर जीवन, फिर सूनापन पल-भर तो लो हँस-बोल प्रिये कर लो निज प्यासे अधरों से प्यासे अधरों का मोल प्रिये । सिहरा तन, सिहरा व्याकुल मन, सिहरा मानस का गान प्रिये मेरे अस्थिर जग को दे दो तुम प्राणों क..

  • यह पल-भर का उन्माद प्रिये।

    बस इतना--अब चलना होगा फिर अपनी-अपनी राह हमें । कल ले आई थी खींच, आज ले चली खींचकर चाह हमें तुम जान न पाईं मुझे, और तुम मेरे लिए पहेली थीं; पर इसका दुख क्या? मिल न सकी प्रिय जब अपनी ही थाह हमें । तुम मुझे भिखारी समझें थीं, मैंने समझा अधिकार मुझे तुम आत्म-समर्पण से सिहरीं, था बना वही तो प्यार मुझे । तुम लोक-लाज की चेरी थीं, मैं अपना ही दीवाना था ले चलीं पराजय तुम हँसकर, दे चलीं विजय का भार मुझे । सुख से वंचित कर गया सुमुखि, वह अपना ही अभिमान तुम्हें अभिशाप बन गया अपना ही अपनी ममता का ज्ञान तुम्हें तुम बुरा न मानो, सच कह दूँ, तुम समझ न पाईं जीवन को जन-रव के स्वर में भूल गया अपने प्राणों का गान तुम्हें । था प्रेम किया हमने-तुमने इतना कर लेना याद प्रिये, बस फिर कर देना वहीं क्षमा यह पल-भर का उन्माद प्रिये। ..

  • नारी जीवन और उसकी पिडा

    आज के इस दौर मे नारी जीवन महज एक समझौते पर निर्धारित हो गया है समाज मेँ नारी का अस्तित्व मजाक बन कर रह गया है, समाज के वर्तमान पेरिवेश मे नारी को हर जगह सहना पड रहा है या समझौता करना पड रहा है,  क्या एक पुरुष इस पीडा का अनुमान लगा सकता है, जो एक नारी सहती  चली आ रही है |   पुरुष तो उस पीडा की कल्पना भी नही कर सकता है, समाज से जैसे इंसानियत समाप्ति की तरफ बढ रही है , और हर तरफ भ्रष्टाचार , बहिस्कार, बलात्कार फैलता जा रहा है हर तरफ शिकरी शिकार ढुढने लगा है , कौन भेडिया  किस रुप मे घूम रहा है समझना मुस्किल है , हैवानियत इतनी बढ गयी है कि अपने खून के रिश्ते भी शर्मसार हो रहे है | इस तरह के लोग समझ नही पा रहे है , नारी शक्ति स्वरुप है , जिसके बल पर यह संस्सर कायम है |     यह नारी किससे कहे कहाँ फरियाद करे , इ..

  • श्री रामकृष्ण परमहंस - तर्क से धर्म प्राप्त नहीं हो सकता।

    श्री रामकृष्ण परमहंस से मिलने नित्य बहुत सारे लोग आते थे,वे उनसे तरह तरह के तर्क करते रहते थे,रामकृष्ण सभी के तर्को का जवाब खुशी खुशी देते थे।एकबार केशवचन्द्र नामक बहुत बड़े विद्वान तार्किक उनके पास तर्क करने पहुँचे,केशवचन्द्र रामकृष्ण को अपने तर्को से हराना चाहते थे।रामकृष्ण तो पढ़े लिखे नहीं थे,परन्तु वे सिद्ध पुरुष थे,परन्तु केशवचन्द्र के नजर में वे गंवार थे।उस दिन काफी चर्चा से बहुत भीड़ जुट गई,सबलोग सोच रहे थे कि रामकृष्ण अवश्य हार जायेंगे कारण उस सदी के सबसे बड़े विद्वान,तार्किक जो पधारे थे।केशवचन्द्र ईश्वर के खिलाफ तर्क देने लगे,रामकृष्ण विरोध नहीं करके उनकी प्रशंसा करने लगे,क्या दलील दी आपने।केशवचन्द्र सोच रहा था कि रामकृष्ण मेरे तर्को को गलत कहेगा तभी तो तर्क विवाद बढ..

  • हिंदू विवाह के सात फेरे और सात वचन

    विवाह = वि + वाह, अत: इसका शाब्दिक अर्थ है - उत्तरदायित्व का वहन करना। पाणिग्रहण संस्कार को सामान्य रूप से हिंदू विवाह के नाम से जाना जाता है। अन्य धर्मों में विवाह पति और पत्नी के बीच एक प्रकार का बंधन होता है जिसे कि विशेष परिस्थितियों में तोड़ा भी जा सकता है, परंतु हिंदू विवाह पति और पत्नी के बीच कयी जन्मो का सम्बंध होता है जिसे किसी भी परिस्थिति में नहीं तोड़ा जा सकता। अग्नि के सात फेरे लेकर और कयी चोजो को साक्षी मान एक पवित्र बंधन होता हैं। हिंदू विवाह में मे इस संम्बंध को अत्यंत पवित्र माना गया है। सात फेरों और सात वचन विवाह के बाद कन्या वर के वाम अंग में बैठने से पूर्व उससे सात वचन लेती है। कन्या द्वारा वर से लिए जाने वाले सात वचन इस प्रकार है। वचन 1 तीर्थव्रतोद्यापन यज्ञक..

  • चिठ्ठी आई है ( प्रताप सोमवंशी)

    भइया की चिठ्ठी आई है घर भर की बातें लाई है पहले लिखा तुम्हे प्यार है और आगे भाभी बीमार है छुटकी को अक्सर बुखार है लिखी अम्मा की पुकार है   आंखे जैसी की तैसी है, गठिया की हालत वैसी है अब तो बेटे है ये लगता, मौत ही जैसे अंतिम हल है शेष कुशल है       घर में पैसे चार नहीं है मिलता कही उधार नहीं है भाई जबसे दिन बिगड़े हैं, कोई नातेदार नही है। छोटे का तुम हाल न पूछो मोटी कितनी खाल न पूछो अरजी आज नई दे आया, और अगला इंटरव्यू कल है शेष कुशल है   बहना का संदेश आया है, उसने फिर ये कहलाया है। सामान और नगदी की खातिर, सास-ससुर ने धमकाया है। कुछ न कुछ सहते रहते हैं, ऐसे दिन कटते रहते हैं। ये सब छोड़ो अपनी लिखना, बीत रहे कैसे छिन-पल हैं। शेष कुशल है।   बप्पा खुद से जूझ रहे हैं, कब आओगे पूछ रहे हैं। लिख दो ख्याल र..

  • संपादकीय : प्रजातन्त्र कैसे हो सकता है अपने मूल रुप मे फलीभूत |

    सविंधान मे राजनितिक दल नाम की कोयी चीज नही है| सरकार बनाने के लिये सदन का बहुमत हासिल होने की शर्त रखी गयी है | समूह बनाने का मौलिक अधिकार  सविधान मे दिया गया है, इसी समूह बनाने की आजादी के मौलिक अधिकार की भावना के तहत लोक प्रतिनिधि अधिनियम 1951 सँसद  मे बनाया गया | इसी नियम के तहत राजनितिक दलो का वजूद आया और उनकी पंजीकरण की व्यवस्था की गयी | राजनितिक दलो की सदस्यता देश के सभी नाग्रिको के लिये मुक्त रखी गई है | इसी प्रविधान का सहारा लेकर किसी भी राजनितिक दल का अध्यकक्ष अपने सगे सम्बधियो को अपने ही राजनितिक दल मे सामिल कर लेता है और पार्टी को राजतन्त्र  की उत्तराधिकारी वाली व्यस्था मे परिवर्तित कर देता है, इस प्रकार प्रजातन्त्र की मूल भावना की हत्या हो जाती है | कितना अच्छा होता कि लोकप्रति..

  • चाहे हिन्दू बनो तुम चाहे मुसलमान बनो

    1. चाहे हिन्दू बनो तुम चाहे मुसलमान बनो चाहे गीता पढ़ो या आमिले कुरान बनो चाहे ईसाई बनो या के सिख बन जाओ हर मजहब कहता है पहले मगर इंसान बनो         2. तड़पते दिल की सदाएँ सुनो करो कोशिश बेकरारों को सुकूनो करार दे जाओ जो भी आया है वो जाने के लिए आया है आदमी हो तो आदमी को प्यार दे जाओ 3. आँख हिन्दू है मेरी दिल है मुसलमान मेरा बताओ दफ़्न करोगे के तुम जलाओगे और इसी बात पे दोनों ही अगर झगडे तो मेरी मिट्टी को ठिकाने कहाँ लगाओगे? 4. राम दिल्ली में तो मुंबई में बिक गई सीता कृष्ण मथुरा में तो काशी में बिक गई गीता चलन इस दौर का कैसा ये हो गया लोगो आज हर दिल लगे है प्यार से रीता-रीता 5. टूट जाती है साँस जब तेरी लोग उल्फ़त का सिला देते हैं खाक पर खाक डाल कर तेरी खाक में खाक मिला देते हैं 6. दोस्तों को दिल दुखाना ..

  • गौतम बुद्ध- वैग्यानिक पहलू (Indusial Identity Born Due To Pre conception of Mind)

    गौतम बुद्ध ने देखा कि वह पिपल का पत्ता जिसके निचे वे बैठ कर तपस्यारत थे ओ पत्ता और उनका शरीर एक समान है | इसमे से किसी का न प्रिथक अस्तितव (separate existence ) है न वह अस्तित्व स्थाई है (or not stable ) समस्त संस्सारिक प्रपंचो का परस्परअल्म्बन (Dependent To Each Other) देखकर बुद्ध ने समस्त प्राणियो की खोखली प्रक्रित (Nature) को समझ लिया था कि सब प्रिथक और सव्तंत्र अस्तित्व से रहित है | उनको इस सत्य का साक्षात्कार हुआ कि मुक्ति के कुंजी परस्पर अवल्मबन था अनात्म के सिद्धोन्तो मे ही निहित है | अपने शरीर , भावनाओ , अवधारणाओ , मानशिक भाव बोध और चेतना की नदियो के प्रकाश की अनुभुती से बुद्ध समझ गये थे कि जीवन के परम आश्यक तत्व है- अनित्यता था अन्नात्म | यदि ये न हो तो न तो कुछ अस्तित्वान हो और न उसका विकाश हो | यदि धान ( Tree Of Rice ) अनित्य एवँ अनात्म भा..

  • हिंदू धर्म क्या कहता है ?

    हिंदू धर्म क्या कहता है ?   हिंदू धर्म मे इन चार की  चर्चा की गयी है चार वर्ण-  क्षत्रिय, ब्राहम्ण, वैश्य, सुद्र चार आश्रम – ब्रम्ह्चर्य, ग्रिहस्त, वामप्रस्थ , स्नयास चार पुरसार्थ – धन , धर्म , काम, मोक्ष.   चार वर्ण -पहले वर्ण कर्म के अनुसार निर्धारित होता था आज के समय मे आनुवंशिक हो गया है, राजा का लडका  राजा होगा मुख्य मंत्री का लडका मुख्य मंत्री होगा , विधायक का लडका विधायक होगा, सांसद का लडका सांसद होगा,  कोशिश यही रहती है |   चार आश्रम -पहले  यह निर्धारित था और आज के के समय मे आश्रम का कोयी क्रम निर्धारित नही है इनमे से (ब्रम्ह्चर्य, ग्रिहस्त, वामप्रस्थ , स्नयास)     चार पुरसार्थ- (धन , धर्म , काम, मोक्ष) – आज के समय मे धन और काम ही पुरसार्थ मे बचा है धर्म और मोक्ष विलुप्त हो गया ह..

  • नामुमकिन को मुमकिन करने निकले हैं

    नामुमकिन को मुमकिन करने निकले हैं, हम छलनी में पानी भरने निकले हैं। आँसू पोंछ न पाए अपनी आँखों के और जगत की पीड़ा हरने निकले हैं। पानी बरस रहा है जंगल गीला है, हम ऐसे मौसम में मरने निकले हैं। होंठो पर तो कर पाए साकार नहीं, चित्रों पर मुस्कानें धरने निकले हैं। पाँव पड़े न जिन पर अब तक सावन के ऐसी चट्टानों से झरने निकले हैं।   जिंदगी को जुबान दे देंगे    जिंदगी को जुबान दे देंगे धडकनों की कमान दे देंगे हम तो मालिक हैं अपनी मर्ज़ी के जी में आया तो जान दे देंगे रखते हैं वो असर दुआओं में हौसले को उड़ान दे देंगे जो है सहमी पड़ी समंदर में उस लहर को उफान दे देंगे जिनको ज़र्रा नही मयस्सर है उनको पूरा जहान दे देंगे करके मस्जिद में आरती-पूजा मंदिरों से अजान दे देंगे मौत आती 'किरण' है आ जाए तेर..

  • दोस्ती किस तरह निभाते हैं (कविता किरण)

    दोस्ती किस तरह निभाते हैं, मेरे दुश्मन मुझे सिखाते हैं। नापना चाहते हैं दरिया को, वो जो बरसात में नहाते हैं। ख़ुद से नज़रें मिला नही पाते, वो मुझे जब भी आजमाते हैं। ज़िन्दगी क्या डराएगी उनको, मौत का जश्न जो मनाते हैं। ख़्वाब भूले हैं रास्ता दिन में, रात जाने कहाँ बिताते हैं।  ..

  • मगर बजती रही फिर भी कोई झनकार चुटकी में ( पूर्णिमा वर्मन)

    कभी इन्कार चुटकी में, कभी इक़रार चुटकी में कभी सर्दी ,कभी गर्मी, कभी बौछार चुटकी में ख़ुदाया कौन-से बाटों से मुझको तौलता है तू कभी तोला, कभी माशा, कभी संसार चुटकी में कभी ऊपर ,कभी नीचे ,कभी गोते लगाता-सा अजब बाज़ार के हालात हैं लाचार चुटकी में ख़बर इतनी न थी संगीन अपने होश उड़ जाते लगाई आग ठंडा हो गया अख़बार चुटकी में न चूड़ी है, न कंगन है, न पायल है ,न हैं घुँघरू मगर बजती रही फिर भी कोई झनकार चुटकी में  ..

  • जब तक आम आवाम नही सुधरेगी , देश सुधर ही नही सकता

    कयी पहलुओ पर ध्यान देना होगा, पहले हम  सोचते है सरकारी मुलाजि के बारे मे जिससे व्यस्था संचालित होती है ( जिला अधिकारी से लेकर  फोर्थ क्लास  तक ) – चाहे आप विकलांग हो, चाहे आप पिछडे वर्ग से हो , चाहे आप किसी वर्ग से समबंधित हो , सरकार  कि किसी  भी स्कीम का लाभ लेना चाहते हो , उसका लाभ लेने के लिये आप को लोहे के चने चबाने पडí..

  • जाने किसकी राह देखतीं, आस भरी बूढ़ी आँखें ( वर्षा सिंह)

    जाने किसकी राह देखतीं, आस भरी बूढ़ी आँखें । इंतज़ार की पीड़ा सहतीं, रात जगी बूढ़ी आँखें । दुनिया का दस्तूर निराला, स्वारथ के सब मीत यहाँ फ़र्क नहीं कर पातीं कुछ भी, नेह पगी बूढ़ी आँखें । आते हैं दिन याद पुराने, अच्छे-बुरे, खरे-खोटे, यादों में डूबी-उतरातीं, बंद-खुली बूढ़ी आँखें । मंचित होतीं युवा पटल पर, विस्मयकारी घ..

  • बेहतर दुनिया (नवनीत शर्मा)

    बेहतर दुनिया, अच्‍छी बातें, पागल शायर ढूंढ़ रहे हैं ज़हरीली बस्‍ती में यारो, हम अमृतसर ढूंढ़ रहे हैं   ख़ालिस उल्‍फ़त,प्‍यार- महब्‍बत, ख़्वाब यक़ीं के हैं आंखों में  दिल हज़रत के भी क्‍या कहने ! बीता मंज़र ढूंढ़ रहे हैं   सीख ही लेंगे साबुत रहना अपनी आग में जल कर भी हम  दर्द को किसने देखा पहले तो अपना सर ढूंढ रहे हैं ..

  • मुल्क तेरी बर्बादी के

    मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है , चोरों के संग पहरेदार नज़र आते है   ये अंधेरा कैसे मिटे , तू ही बता ऐ आसमाँ , रोशनी के दुश्मन चौकीदार नज़र आते है   हर गली में, हर सड़क पे ,मौन पड़ी है ज़िंदगी , हर जगह मरघट से हालात नज़र आते है   सुनता है आज कौन द्रौपदी की चीख़ को , हर जगह दुस्सासन सिपहसालार नज़र आते है   सत्ता से समझ&#..

  • चल मन, उठ अब तैयारी कर

    चल मन, उठ अब तैयारी कर यह चला - चली की वेला है । कुछ कच्ची - कुछ पक्की तिथियाँ कुछ खट्टी - मीठी स्मृतियाँ स्पष्ट दीखते कुछ चेहरे कुछ धुँधली होती आकृतियाँ है भीड़ बहुत आगे - पीछे, तू, फिर भी आज अकेला है । माँ की वो थपकी थी न्यारी नन्ही बिटिया की किलकारी छोटे बेटे की नादानी, एक घर में थी दुनिया सारी चल इन सबसे अब दूर निकल, दुन..

  • पेन्सिल की कहानी !

    एक बालक अपनी दादी मां को एक पत्र लिखते हुए देख रहा था। अचानक उसने अपनी दादी मां से पूंछा, " दादी मां !" क्या आप मेरी शरारतों के बारे में लिख रही हैं ? आप मेरे बारे में लिख रही हैं, ना " यह सुनकर उसकी दादी माँ रुकीं और बोलीं , " बेटा मैं लिख तो तुम्हारे बारे में ही रही हूँ, लेकिन जो शब्द मैं यहाँ लिख रही हूँ उनसे भी अधिक महत्व इस &..

  • मेहदी हसन साहब की एक उम्दा गज़ल

    तेरी आँखो को जब देखा  कँवल कहने को जी चाहा  मैं शायर तो नहीं लेकिन  गज़ल कहने को जी चाहा तेरा नाजुक बदन छूकर  हवाएं गीत गाती है  बहारें देखकर तुझको  नया जादू जगाती है  तेरे होठों को कलियों का  बदल कहने को जी चाहा मैं शायर तो नहीं लेकिन  गज़ल कहने को जी चाहा इजाजत हो तो आँखो में  छुपा लूं, ये हंसी जलवा  तेरे रुख़साë..

  • महान क्रन्तिकारी-अशफाक: एक पत्र देशवासियों के नाम !

    मेरे प्यारे देशवासियों, भारत माता को आजाद करवाने के लिए रंगमंच पर हम सभी भूमिका अदा कर चुके है | गलत किया या सही, हमने जो भी किया, स्वंतत्रता पाने की भावना से प्रेरित होकर किया | हमारे अपने निंदा करे या प्रंशसा, लेकिन हमारे दुश्मनों तक को हमारी हिम्मत और वीरता की प्रंशसा करनी पड़ी है | कुछ लोग कहते है की हमने गुलामी ..

  • स्वामी विवेकानंद जी का विश्व प्रसिद्ध भाषण

    स्वामी विवेकानंद जी का विश्व प्रसिद्ध भाषण, विश्व धर्म महासभा में जिसने पुरे विश्व के जन मानश को झकझोर दिया था |  मेरे अमरीकी भाइयो और बहनों!  आपने जिस सौहार्द और स्नेह के साथ हम लोगों का स्वागत किया हैं उसके प्रति आभार प्रकट करने के निमित्त खड़े होते समय मेरा हृदय अवर्णनीय हर्ष से पूर्ण हो रहा हैं। संसार में &#..

  • मन के हारे हार है मन के जीते जीत !

    दोस्तों , बहुत दिनों से आप अपने आपको थका हुआ और कमजोर महसूस कर रहे हैं ! मन में भी नकारात्मक भाव आ रहे हैं ,कोई उमंग महसूस नहीं हो रही है ! जिंदगी बोझिल सी हो रही है ! ऐसे में आप किसी डॉक्टर के पास जाते हैं ! वो आपकी पूरी जांच करने के बाद गंभीर स्वर में आपसे कहता है ,--'माफ़ कीजिएगा ! लेकिन आपकी reports देख कर मुझे लगता है की अगले एक सा&#..

  • हम और आप (स्म्मान और आत्म्समान )

    हम पैदा होते है धीरे धीरे बडे होते है स्कूल जाने लगते है क, ख, ग ( A, B, C, ) सिखना चालू करते है, थोडा और बडे होते है , क से कबूतर , ख से खरगोश , ग से गमला और ( A for Apple , B for Bat, C for Cat ) सीख लेते है , फिर बहूत कुछ सिखते है , पास होते है फेल होते है, कोयी I.A.S . बनता है कोयी P.C.S. बनता है कोयी बाबू बनता है , कोयी चपरासी बनता है , कोयी नेता बनता है कोयी कार्यकर्ता बनता है |  फिर ..


Live हिन्दुस्तान

मांझी ने की मोदी से मुलाकात, कहा नीतीश के अलावा किसी से भी करेंगे गठबंधन
Live हिन्दुस्तान
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इस मुलाकात ने इन अटकलों को तेज कर दिया कि वह इस साल के अंत में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा के साथ गठबंधन कर सकते हैं। हालांकि महादलित नेता ने इस मुद्दे पर चुप्पी साध रखी है। चुनाव पूर्व किसी गठबंधन के बारे में सवालों को टालते हुए मांझी ने चुनाव बाद के गठजोड़ की बात की और दावा किया कि वह उस गठबंधन के सहयोगी बनेंगे जिनमें बिहार के मुख्यमंत्री एवं जदयू नेता नीतीश कुमार शामिल न हों। मांझी ने हाल में ही अपनी नयी पार्टी हिन्दुस्तान अवाम मोर्चा बनायी है।
मोदी से मिले मांझी, थाम सकते हैं एनडीए का दामनदैनिक जागरण
नीतीश को छोड़ किसी के साथ भी कर सकते हैं गठबंधन : जीतन राम मांझीएनडीटीवी खबर
मांझी का लालू को दो टूक,'गठबंधन चाहते हैं तो मुझे घोषित करें CM उम्मीदवार'ABP News
Sahara Samay
सभी ४५ समाचार लेख »

Zee News हिन्दी

लोकलुभावन रास्ते पर चलने की बजाय कठिन मार्ग का चुनाव किया : PM मोदी
Zee News हिन्दी
नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उन्होंने जानबूझ कर 'लोकलुभावन रास्ता' नहीं चुना और उसकी बजाय त्रुटिपूर्ण सरकारी मशीनरी को ठीक करने के लिए 'अधिक कठिन मार्ग' को अपनाया। यह पूछे जाने पर कि उनकी सरकार के एक साल पूरे होने पर क्या उन्हें लगता है कि वह कुछ अलग कर सकते थे, उन्होंने कहा कि उनके पास दो विकल्प थे। 'एक विकल्प था सरकारी मशीनरी को लामबंद करने, व्यवस्था में आई कई त्रुटियों और खराबियों को दूर करने के लिए प्रक्रियात्मक रूप से (मेथाडिकली) काम किया जाए जिससे कि देश को लंबे समय तक स्वच्छ, कुशल और निष्पक्ष शासन के रूप में लाभ दिया जा सके।' 'दसूरा विकल्प ...
लोकलुभावन रास्ते की बजाय अधिक कठिन मार्ग चुना :मोदीBhasha-PTI

सभी २ समाचार लेख »

बीबीसी हिन्दी

मिलिए मैसूर के नए 'राजा' से
बीबीसी हिन्दी
मैसूर के वॉडेयार राजघराने को अपना 27वां 'राजा' मिल गया है. 23 साल के यदुवीर कृष्णदत्त वॉडेयार मैसूर की एक भव्य समारोह में ताजपोशी हुई. यदुवीर अर्थशास्त्र में अंडर ग्रेजुएट अंडरग्रेजुएट हैं. उन्होंने अमरीका मैसाचुसेट्स से पढ़ाई की है. यदुवीर ने अपने चाचा श्रीकांतदत्त नरसिंहराज वॉडेयार की जगह ली जिनका निधन दिसंबर 2013 में हो गया था. श्रीकाांतदत्त की कोई संतान नहीं थी और उनकी पत्नी प्रमोददेवी वॉडेयार ने हाल ही में यदुवीर को गोद लिया था.
23 वर्षीय यदुवीर बनें मैसूर के 27वें राजा, जानिये दिलचस्‍प बातेंप्रभात खबर
परंपरा: 23 साल की उम्र में ये बने मैसूर के 27वें महाराज, हो चुकी है सगाईदैनिक भास्कर
मैसूर को मिला 27वां राजा, जानिए अब क्‍या है राजतंत्र की भूमिकादैनिक जागरण

सभी २२ समाचार लेख »

नवभारत टाइम्स

सिर्फ 'शरीया' के कारण SBI ने रोका इस्लामिक फंड?
नवभारत टाइम्स
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) की शरीया म्यूचुअल स्कीम को अचानक स्थगित किए जाने के मामले पर कई सासंदों ने सरकार से यह सवाल पूछा है कि क्या वह शरीया शब्द को लेकर पूर्वाग्रह रखती है? उन्होंने कहा कि इस स्कीम को सभी एजेंसियों ने अच्छी तरह जांच लिया था और अप्रूव भी कर दिया था। यह स्कीम पिछले साल दिसंबर में लॉन्च की जाने वाली थी। फाइनैंशल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, जेडीयू के सांसद केसी त्यागी, शिरोमणि अकाली दल के सांसद नरेश गुजराल और राजीव चंद्रशेखर (निर्दलीय) इस स्कीम के स्थगित किए जाने पर सवाल उठा रहे हैं। केसी त्यागी ने कहा,'यह स्कीम वैसे तो अप्रूव कर दी ...
SBI ने शरीया के कारण रोका इस्लामिक फंडSamachar Jagat
तो क्या सिर्फ शरीया के कारण रोक दी गई इस्लामिक MF स्कीमPatrika
केवल शरीया के कारण एसबीआई ने रोका इस्लामिक फंडSanjeevni Today

सभी ५ समाचार लेख »

देशबन्धु

राज्य सरकार ने की किन्नरों को सशक्त बनाने की पहल, देश को मिला पहला किन्नर प्रिंसिपल
प्रभात खबर
कोलकाता: पश्चिम बंगाल सरकार ने एक किन्नर शिक्षाविद को राज्य में एक महाविद्यालय का प्रधानाचार्य नियुक्त किया है. सरकार की इस पहल को किन्नरों को सशक्त बनाने की दिशा में उठाया गया बड़ा कदम माना जा रहा है. यह देश में अपनी तरह का पहला मामला है. मानवी बंद्योपाध्याय नाम की किन्नर शिक्षाविद को कृष्णानगर महिला महाविद्यालय की प्रधानाचार्य नियुक्त किया गया है. वह नौ जून को कार्यभार संभालेंगी. वह राज्य के विवेकानंद शतवार्षिकी महाविद्यालय में सह-प्राध्यापक हैं. कल्याणी विश्वविद्यालय के कुलपति रतन लाल हंगलू ने बताया कि वह एक सक्षम प्रशासक और एक अच्छा इनसान हैं.
बंगाल सरकार ने किन्नर को बनाया महाविद्यालय का प्रधानाचार्यABP News

सभी १२ समाचार लेख »

दैनिक जागरण

रमन सिंह के नक्सलियों को सपूत बताने पर भड़के नेता प्रतिपक्ष
दैनिक जागरण
अम्बिकापुर। नेता प्रतिपक्ष टी.एस. सिंह देव ने प्रदेश के मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह उस बयान को नक्सलियों का हौसला बढ़ाने वाला बताया है, जिसमें उन्होंने छत्तीसगढ़ की भूमि को खून के लाल कर देने वाले नक्सलियों को छत्तीसगढ़ की माटी का सपूत बताया था। देव ने मुख्यमंत्री से पूछा है कि क्या वे नक्सली माटी के सपूत हैं, जिन्होंने भोलेभाले ग्रामीणों, सुरक्षा में लगे जवानों तथा जन प्रतिनिधियों की हत्याएं की है। झीरम घाटी काण्ड को अंजाम दिया या फिर जिन्होंने नक्सलियों के साथ लड़ाई में अपनी शहादतें दी हैं वे प्रदेश के सच्चे सपूत हैं। उनका कहना था कि मुख्यमंत्री को इस ...

और अधिक »

दैनिक जागरण

प्रधानमंत्री ने वीर सावरकर की जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी
प्रभात खबर
नयी दिल्ली : आज स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर की जयंति है. इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की. प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में कहा कि मैं वीर सावरकर को उनकी जयंती पर नमन करता हूं. हम उनके अदम्य उत्साह और भारत के इतिहास में अमूल्य योगदान का स्मरण करते हैं. देश के प्रति अमर प्रेम ने वीर सावरकर को मातृभूमि के साथ हो रहे अन्याय के विरुद्ध लडने की प्रेरणा दी. उन्होंने कई अन्य लोगों को स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के लिए प्रेरित किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि सामाजिक सुधारों पर बल देने के लिए हम वीर सावरकर को सलाम करते हैं और लोगों में ...
पीएम मोदी ने वीर सावरकर को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित कीSamachar Jagat
मोदी ने दी वीर सावरकर दी श्रद्धांजलिInext Live
स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर को सांसदों ने दी श्रद्धांजलिWebdunia Hindi

सभी १५ समाचार लेख »

फेस टु फेस

जौनपुर:-डी0एम0 सुहास एल0वाई का तबादला रोकने के लिए जनता ने किया प्रदर्शन ।

जानिये जनता की समस्या : इनकी जुबानी

Sagar Mandle
Village-Ghorari , Thana-Ranitarai , Block-Patan , Dist-Durg , इस घोरारी नामक गांव मे कच्ची शराब बनाई जाती है...बच्चो से लेकर बुढ्ढे तक इनके जबरदस्त गिरफ्त में है...महिलाए भी शराब की आदि हो चुके है..यहां के युवां वर्ग सिर्फ 30 से 35 साल तक ही जी पाते आगे पढें...

Samar Yadav
जौनपुर शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में सड़के और बिजली कि समस्या बहुत है इसमे अभी तक कोई सुधार नहीं दिखाई देरहा है उत्तर प्रदेश कि वर्तमान सरकार लाख दवा करले लेकिन समस्या दिन और प्रतदिन और ख़राब होती जारही है! आगे पढें...

अपने शहर गाँव से जुड़ी समस्या पोस्ट करने के लिये क्लिक करें

Khoji News sawal-10 Lucky Drow

भारत का प्रधान मंत्री कौन है ?

  • मनमोहन सिंह
  • आडवाणी
  • मोदी
  • राहुल गाँधी

सही उत्तर देने के लिये लाग इन करें
Get our toolbar!